Tuesday, 14 November 2017

दीर्घविराम

राजकुमार थक गया है 
(उसका घोड़ा भी)
एक के बाद एक 
लम्बे सफर पर जा कर,
जिनके खत्म होने तक 
वो राजकुमारियाँ बचा चुकी होती हैं 
अपने-आप को,
जिन्होंने उसे बुलाया भी नहीं था.
एक मौका दो उसे 
खुद को बचाने का,
एक लम्बीगहरीशांत नींद में 
आराम करने दो उसे.
जागने पर शायद कोई राजकुमारी 
उसे प्यार से चूम लेगी,
अगर दोनों को ठीक लगे तो.

First published in Samalochan, 11 Nov 2017.


3 comments:

yashoda Agrawal said...

बहुत सुन्दर
सादर

Yogi Saraswat said...

बहुत सुन्दर !!

ankita said...

Aap dono ka aabhar.

FOLLOWERS

Blogger last spotted practising feminism, writing, editing, street theatre, aspirational activism.