Monday, 9 November 2015

You’ve got mail

Furtive glances
Rewarded with a flicker

Bated breath
Rewarded with release

Unexpected sender
Rewarded with a curse

Desired sender
Rewarded with a curse

The moment of hope
Stays unrewarded

Goes
Unrewarded


First published in Muse India, Nov-Dec 2015.

On your way

Who's to say
If you're coming up
Or climbing down
As long as you can impress upon them
That you're well on your way


First published in Muse India, Nov-Dec 2015.

Bargain?

Every day I lose a little bit of you from me.
Is this really better
Than losing myself in you a little bit
Every day?


First published in Muse India, Nov-Dec 2015.




McLeodganj

Same same? Sure
But different, yes, learn to spot the difference
Indo. Tibetan. Chinese. 

Before becoming the beatific Buddha, try being the laughing lama.

A meal in a bowl
Why fuss
About laying the table?

Keep a light head about your shoulders, find it in the clouds 
Queer coloured umbrella rainbows all around, when you can see through the clouds

Cars learn patience
Stomping mountain bulls and goats unite
Some incorrigible neighbour will get his just deserts today
Get out of the way.

Tease the schoolboy playing in his mother's shop and he'll spit at you
No, they don't have the miniature buddha you wanted.

Don't be fooled into thinking that the road you went down will be the same one you go up 

And watch out for the hairpin bend.


First published in Muse India, Nov-Dec 2015.


Saturday, 7 November 2015

सौ (मन की) बात की एक बात

भाड़ में गई तुम्हारी निरपेक्षता 
और तेल लेने जाए तुम्हारी कट्टरता.

मैं तो बस दुनिया देखना चाहता हूँ.

चाय का प्याला हाथ में लिए,
गीली पलकों से 
माँ को याद करते हुए,  
तुम सबको भूल जाना चाहता हूँ.


First published in Jankipul, 2 Nov 2015.




Thursday, 5 November 2015

मैनेज्मेंट

कुछ लोगों को बात हजम नहीं होती.
चिढ़ते फिरते हैं,
"जिसे देखो मैनेज्मेंट करने चला है."

इनके घरों की बत्ती गुल करके 
हाथ में ढिबरी थमा दीजिये,
ये ले मशालें चल पड़ेंगे.

अहमक समझते नहीं कि कितनी ज़्यादा ज़रुरत है इस देश में,
एक लोकतंत्र में,
मैनेज्मेंट की,

कितनी ज़रुरत है 
यूनियन लीडर को मैनेज करने की,
कारखाने में मरे मजदूर के परिवार को मैनेज करने की,
अत्यधिक जानकारी से कुलबुलाते पत्रकार को मैनेज करने की,
एफ.आई.आर दर्ज करने वाले पुलिस अफसर को मैनेज करने की,
कोर्ट के मुंशी को मैनेज करने की,
जज को  . . . 

सौरी, सौरी, गलती से  . . . 


First published in Jankipul, 2 Nov 2015.








द्विविवाह

मैं तुम्हारे प्रेम में वफ़ादार नहीं 
तुम अकेले नहीं हो 
हर क्षण मेरे मन में 
अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराने वाले।

वैसे हमने बात तो कर ही रखी थी इस बारे में 
कि ऐसा कुछ हुआ 
तो हम शांतिपूर्वक अपनी अलग-अलग राह चुन लेंगे।

पर अब तुम मुझसे दोनों में से चुनने को कहो 
तो ये भी संभव नहीं।

तुम दोनों को अलग नहीं कर सकती। 
मेरे उतने ही करीब हो तुम दोनों,
तुम 
और तुम्हारे ना होने का भय

सो उस दूसरे के साथ जीने की आदत डाल लेना चाहती हूँ
नहीं चाहती कि उससे पीछा छुड़ाने के चक्कर में 
तुम मुझसे छूट जाओ.


First published in Jankipul, 2 Nov 2015.











FOLLOWERS

Blogger last spotted practising feminism, writing, editing, street theatre, aspirational activism.