Saturday, 11 November 2017

आगे रास्ता बंद है

चढ़ाई आने पर 
रिक्शेवाला पेडल मारना छोड़ 
अपनी सीट से नीचे उतर आता है. 
दोनों हाथों से हमारा वज़न खींच 
हमें ले जाता है 
जहाँ हम पहुँचना चाहते हैं.
एक दिन 
सड़क के उस मोड़ पर 
सीट से उतर कर 
शायद वो अकेला चलता चले 
हमें पीछे छोड़,
गुस्सेनफ़रत या प्रतिशोध की भावना से नहीं 
पर क्योंकि 
उस पल में 
हम उसके लिए अदृश्य हो चुके होंगे,
जैसे वो हो गया था 
हमारे लिए 
सदियों पहले.
उस पल में 
उसने फ़ैसला कर लिया होगा 
उसे कोई फ़र्क नहीं पड़ता.

First published in Samalochan, 11 Nov 2017.


2 comments:

kalaa shree said...

बहुत ह्रदयस्पर्शी लिखा अपने.

ankita said...

Bahut bahut dhanyawad, Kalaa Shree.

FOLLOWERS

Blogger last spotted practising feminism, writing, editing, street theatre, aspirational activism.