Friday, 14 December 2018

हिम्मत


काश की बाँटी जा सकती उस प्रसाद की तरह
जो लोग अपने-अपने भगवान को भेंट करते हैं
क्योंकि होती तो है उतनी ही पवित्र . . .
हिम्मत.

काश साँस की तरह हर एक के पास होती 
क्योंकि होती तो है उतनी ही ज़रूरी . . .
हिम्मत.

पर न बिकती है
न उधार में मिलती है.

पौधे सी अपने ज़मीर की मिट्टी में उगानी पड़ती है
फिर एक दिन रोशन पेड़ सी लहलहाने लगती है
रगों को पाक़ करती, झरने सी चमचमाने लगती है . . .  
हिम्मत.




First published in Yuddhrat Aam Aadmi, 2018.


No comments:

FOLLOWERS

Blogger last spotted practising feminism, writing, editing, street theatre, aspirational activism.